मत्स्य पालन कर कमाए सालाना 10 से 20लाख रुपए Fish farming in chhattisgarh ( मतस्य पालन उद्योग )

छत्तीसगढ़ में आज के समय में मत्स्य पालन उद्योग अत्यधिक फल फूल रहा है क्योंकि निरंतर मछलियों की मांग बढ़ती ही जा रही है जिसकी पूर्ति करने के मत्स्य उद्योग के नए-नए तकनीकों का उपयोग किया जा रहा है जिसका उपयोग कर आप सालाना 10से 20 लाख रुपए कमा सकते हैं यह काम के लिए ज्यादा पूंजी की आवश्यकता नहीं होती एवं राज्य सरकार द्वारा भी सब्सिडी मुहैया कराई जाती है जिससे मुनाफा अत्यधिक हो सकता है|

मछली पालन करने के लिए तालाब निर्माण की मुख्य कार्य विधि👉👇

1. कम से कम 70 डिसमिल से 2 एकड़ की जमीन एक सुनियोजित तालाब के लिए पर्याप्त होती है

2.तालाब में काली मिट्टी की प्रचुर मात्रा होनी चाहिए

3.तलाब बनाने से पूर्व वहां पानी के स्रोत के बारे मैं पूरी जानकारी एवं पानी की प्रचुर व्यवस्था की जानी चाहिए जिससे तालाब में पानी की कमी ना हो सके

4.तालाब को आयताकार आकार पर बनाना चाहिए

5.तालाब की गहराई कम से कम 7 फीट से 12 फीट होनी चाहिए

6.तलाब अगर काली मिट्टी नहीं है तो उस पर काली मिट्टी की प्रचुर मात्रा पर डलवाने चाहिए

7.तालाब की खुदाई का कार्य पूर्ण होने के पश्चात निम्न कार्य करनी चाहिए

8.पानी भरने के पूर्व तालाब को उर्वरक युक्त बनाना जिसमें प्राणवायु बन सके उसकी उचित व्यवस्था करने पड़ते हैं

9.सर्वप्रथम एक ट्रैक्टर पर एकड़ के हिसाब से गोबर खाद एवं लेयर मुर्गी के खाद को डालना चाहिए और चारों साइड अच्छी तरह फैला देना चाहिए

10.उसके पश्चात तलाब में पानी भरने का कार्य करना चाहिए

11. कम से कम 10 दिन पानी के साथ छोड़ देना चाहिए

तालाबों में पर्याप्त मात्रा में घास का प्रयोग

तलाब में प्राण वायु बनाने के लिए घासो का होना अत्यधिक आवश्यक है इसका निवारण करने के लिए अत्यधिक मात्रा में तलाब की तली पर अत्यधिक मात्रा में घास का होना आवश्यक है

घास के होने से मछलियां स्वस्थ रहती है एवं ऑक्सीजन की मात्रा बनी रहती है

घर मुख्यता आप नदियों से सरलतम एवं आसानी से प्राप्त कर सकते हैं

इससे मछली की पैदावार पर अत्यधिक असर पड़ता है

इसके पश्चात मछली का चयन किया जाता है जो निम्न प्रकार से आते हैं

तालाब में मछली का चयन करने से पहले या करना बहुत सावधानी से करना चाहिए क्योंकि नए तालाब में प्राण भाइयों एवं सभी प्रकार के वातावरण नए होते हैं इस कारण फिंगर साइज से बड़ी मछलियों का चयन करना चाहिए जिसमें तीन प्रकार की मछलियों का प्रयोग करना चाहिए

तीन प्रकार की मछलियों से आशय है की तलाब में तीन प्रकार के स्तर होते हैं पहला पहले नीचे का भाग दूसरा बीच का भाग तीसरा ऊपरी

तीन मछली के मुख्यतः प्रयोग करना चाहिए

पहला- मछली तालापिया

दूसरा -कतला मछली

तीसरा – कोमल कार

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *