BIG BREAKING :- पं. रविशंकर विश्वविद्यालय ने सभी वार्षिक परीक्षाओं के लिए जारी की आदेश

BIG BREAKING :- पं. रविशंकर विश्वविद्यालय ने सभी वार्षिक परीक्षाओं के लिए जारी की आदेश

पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय की वार्षिक परीक्षा के पेपर छात्र घर से लिखकर जमा करेंगे या केंद्र में आकर परीक्षा देनी होगी। यह अभी तय नहीं है, लेकिन वार्षिक परीक्षा के पेपर भी ऑनलाइन होंगे तब घर बैठे परीक्षा देकर अच्छे नंबर पाने उम्मीद पर कई ऐसे छात्र आवेदन कर रहे हैं, जो में पास हैं। यही वजह है कि श्रेणी सुधार के तहत लगातार आवेदन जमा किए जा रहे हैं। इससे ये माना जा रहा है कि पिछले साल की तुलना में इस वार्षिक परीक्षा के लिए ज्यादा आवेदन मिलेंगे। पिछले सत्र में परीक्षार्थियों की संख्या 1.47 लाख थी।

रविवि की सेमेस्टर परीक्षा कुछ दिनों में शुरू होने जा रही है। इसके तहत प्रथम, तृतीय, पांचवें सातवें सेमेस्टर के अलावा अन्य परीक्षाएं होंगी। परीक्षाएं ऑनलाइन या ब्लैंडेड मोड में होगी। इसके लिए तैयारी की जा रही है। सेमेस्टर परीक्षा के के लिए ऑन लाइन सिस्टम घोषित होने के बाद से ही वार्षिक परीक्षा के लिए आवेदन ज्यादा आ रहे हैं। विवि से जुड़े जानकारों का कहना है कि अभी कोरोना संक्रमण तेजी से फैल रहा है। इस वजह से सेमेस्टर परीक्षाओं का आयोजन ऑनलाइन करने की अनुमति दी गई है। कई छात्र हालात को देखते हुए उम्मीद कर रहे हैं कि वार्षिक परीक्षा भी ऑनलाइन हो सकती है। इसलिए श्रेणी सुधार आवेदनों की संख्या बढ़ रही है।

रविवि के अधिकारी भी स्वीकार कर रहे हैं कि इस बार श्रेणी सुधार के लिए छात्रों के आवेदन लगातार आ रहे हैं। ऑनलाइन आवेदन के बाद गलतियों को ठीक कराने के लिए जब छात्र रविवि आ रहे हैं तब इससे जानकारी मिल रही है। पहले श्रेणी सुधार के लिए इक्का-दुक्का छात्र ही आवेदन करते थे, क्योंकि, एक बार पास होने के बाद छात्र उसी विषय की दोबारा परीक्षा नहीं देते। वार्षिक परीक्षा के फार्म 24 तक भरे जाएंगे। रविवि की वार्षिक परीक्षा अप्रैल से शुरू हो सकती है। इसके लिए आवेदन की प्रक्रिया चल रही है। फार्म 24 तक भरे जाएंगे। इसके बाद आवेदन के लिए छात्रों को विलंब शुल्क देना होगा। पिछले वर्षों में यह देखा गया है कि बीए के लिए बड़ी संख्या में आवेदन मिलते हैं।

पास होने वाले बड़े

पिछले एक दो वर्षों में वार्षिक परीक्षा में पास होने वाले छात्रों की संख्या बढ़ी है। वर्ष 2020 में कई विषयों की परीक्षा छात्रों ने केंद्र में बैठकर दी। विषयों के पेपर घर से लिखकर जमा किए। मार्च 2020 में जब परीक्षा शुरू हुई तब कोरोना को लेकर कोई परेशानी नहीं थी। कुछ दिन बाद लॉकडाउन लगाया गया। इसके बाद दोबारा सितंबर 2020 में बचे हुए पेपरों की परीक्षा शुरू हुई। तब घर से पेपर लिखकर जमा करने का अवसर दिया गया। इसलिए उस सत्र में अधिकांश कक्षाओं में बड़ी संख्या में छात्र पास हुए। वर्ष 2021 में वार्षिक परीक्षा के तहत सभी विषयों की परीक्षा छात्रों ने घर से दी। इस वर्ष अधिकांश छात्र पास हुए।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: