BIG BREAKING: हेमचंद यादव विश्वविद्यालय की वार्षिक परीक्षाओं के लिए जारी हुई आदेश Durg University Exam

BIG BREAKING: हेमचंद यादव विश्वविद्यालय की वार्षिक परीक्षाओं के लिए जारी हुई आदेश ! Durg University Exam

हेमचंद यादव विश्वविद्यालय की अप्रैल में संभावित स्नातक और स्नातकोत्तर स्तर की वार्षिक परीक्षा के लिए शिक्षा सत्र 2021-22 में 1.92 लाख परीक्षार्थियों ने आवेदन किया है। इसमें 9938 परीक्षार्थी ऐसे हैं,

Join in WhatsApp Group:- Click Here

जिनकी पढ़ाई में 8 से 10 साल का गेप है। यानी इन परीक्षार्थियों ने पिछली परीक्षा वर्ष 2010<11 से 2013-14 में दी है। स्नातकोत्तर कक्षाओं में अधिक अंतराल वाले परीक्षार्थियों की संख्या अधिक है।

शिक्षा सत्र 2018-19 में परीक्षार्थियों की संख्या 87 हजार थी वर्ष 2019-20 में संख्या बढ़कर 1.21 लाख हो गई। वर्ष 2020- 21 में परीक्षार्थियों की संख्या में और वृद्धि हुई। परीक्षार्थियों की संख्या बढ़कर 1.37 लाख हो गई। इस बार यानी शिक्षा सत्र 2021<22 में परीक्षार्थियों की संख्या 1.92 लाख तक बढ़ गई है। इसमें 1.22 लाख परीक्षार्थी स्वाध्यायी हैं और 60 हजार नियमित।

इस तरह हेमचंद विवि में परीक्षा देने वाले परीक्षार्थियों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। अभी सभी परीक्षार्थियों को नामांकन फार्म जमा करने को कहा गया था< इसके बाद यह आंकड़ा सामने आया है। ऐसे कई परीक्षार्थी हैं, जिन्होंने अरसे से पढ़ाई छोड़ दी है, लेकिन अब उसे जारी रखने के लिए परीक्षा के फार्म भरे हैं। इस तरह हर साल संख्या बढ़ती जा रही।

नियमित व स्वाध्यायी दोनों के लिए नामांकन अनिवार्य

विश्वविद्यालय के नियमित व स्वाध्यायी दोनों छात्रों के लिए नामांकन जरूरी है। विवि के अफसरों के मुताबिक बिना नामांकन के छात्र परीक्षा में शामिल नहीं हो पाएंगे। < इसी से उनका रिकॉर्ड भी मेनटेन होगा। इसलिए अभी तक जिन परीक्षार्थियों ने नामांकन दाखिल नहीं किया है, उन्हें इसे आवश्यक रूप से करने कहा जा रहा है। ऐसे छात्र बड़ी संख्या में है।

पिछले चारों शिक्षा सत्रों में देखा गया है कि परीक्षा में शामिल होने वाले परीक्षार्थियों में स्वाध्यायी यानी प्राइवेट परीक्षा देने वाले परीक्षार्थियों की संख्या अधिक रही है। वर्ष 2018-19 में इन की संख्या 56,368 रही थी तो वर्ष 2019-20 में 87,621, वर्ष 2020-21 में 92,889 स्वाध्यायी छात्र<छात्राओं की संख्या रही। इस बार इसमें करीब 30 हजार अधिक और छात्रों की संख्या बढ़ी है। जानकारों का कहना है कि ऑनलाइन परीक्षा की वजह से लोगों का ध्यान डिग्री की ओर बढ़ा है।

एक दर्जन से अधिक उपकेंद्र बनाने के लिए होगी प्राचार्यों की बैठक

हेमचंद विवि से 144 शासकीय और निजी महाविद्यालय संबद्ध हैं। पीजी सेमेस्टर परीक्षा के दौरान 37 महाविद्यालयों को परीक्षा केंद्र बनाया जाता रहा है। वहीं पिछले साल तक स्नातक स्तर की परीक्षा के लिए 68 परीक्षा केंद्र बनाए जाते रहे हैं। इस बार बढ़ती< छात्रों की संख्या को देखते हुए परीक्षा केंद्रों की संख्या बढ़ाई जाएगी। साथ ही करीब एक दर्जन से अधिक उप केंद्र भी बनाए जाएंगे। इसके लिए आने वाले दिनों में प्राचार्यों की बैठक बुलाई गई है।

इस बार ऑफलाइन वार्षिक परीक्षा की संभावना ज्यादा !

कोविड के घटते मरीजों की संख्या और बढ़ते रिकवरी रेट को देखते हुए अभी तक विवि ने आने वाले दिनों में होने वाली सभी परीक्षाएं फिलहाल ऑफलाइन मोड पर लेने का फैसला किया है। स्थिति सामान्य रही ऑफलाइन परीक्षा होने की संभावना सबसे <अधिक है। वैसे पिछले वर्षों में स्नातक और स्नातकोत्तर स्तर की सारी कक्षाओं की परीक्षाएं ऑनलाइन मोड पर हुई थी। परीक्षार्थियों को उन्हीं कॉलेजों में उत्तर पुस्तिकाएं जमा करनी पड़ी थी, जहां वह पढ़ रहे थे।

Join in WhatsApp Group: Click Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *