PRSU विश्वविद्यालय की वार्षिक परीक्षाओं की मूल्यांकन के लिए जारी हुई आदेश!

वार्षिक परीक्षा के नतीजे चाहे जैसे भी आएं, छात्रों को नंबरों से संतोष करना होगा। कोई भी छात्र न तो पुनर्मूल्यांकन की अर्जी दे सकेंगे और न ही रिजल्ट के बाद अपनी आंसरशीट मांगकर ये देख सकेंगे कि किस प्रश्न पर उन्हें कितने अंक मिले? पं. रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय की वार्षिक परीक्षा ऑनलाइन मोड पर आयोजित की जा रही है। इसमें 1.82 लाख छात्र शामिल होंगे। छात्र घर से पेपर लिखकर कॉलेजों में जमा करेंगे।

इसलिए छात्रों को पुनर्मूल्यांकन-पुनर्गणना की पात्रता नहीं दी गई है। इतना ही नहीं रिजल्ट के बाद छात्र आंसरशीट की फोटोकॉपी भी नहीं मांग सकेंगे। रविवि के अफसरों का कहना है कि परीक्षा के बाद पुनर्मूल्यांकन व पुनर्गणना की पात्रता देने का नियम है। छात्रों को अगर इससे भी संतुष्टि नहीं मिलती तो वे आंसरशीट की फोटो कॉपी मांगकर ये देख सकते हैं।

आंसरशीट आरटीआई में भी नहीं कोरोना की वजह से पिछले सत्र में भी ऑनलाइन परीक्षा हुई थी। उस दौरान रीवैल की पात्रता तो नहीं दी गई, लेकिन कई छात्रों ने सूचना के अधिकार के तहत आवेदन देकर अपनी आंसरशीट की छायाप्रति मांग ली थी। इस बार छात्रों को सूचना के अधिकार के तहत भी आंसरशीट नहीं दिए जाने का फैसला किया है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

%d bloggers like this: