भारत स्थिति एवं विस्तार || India’s position and expansion

स्थिति एवं विस्तार India’s position and expansion || भारत का प्राकृतिक विभाजन

भारत 8°4′ उत्तरी अक्षांश से 37°6′ उत्तरी अक्षांश तक एवं 68°7 पूर्वी देशान्तर से 97°25 पूर्वी देशान्तर तक फैला है। इस तरह अक्षांशीय एवं देशान्तरीय विस्तार लगभग 30° है। उत्तर से दक्षिण तक 3214 किमी एवं पूर्व से पश्चिम तक 2933 किमी है। इसकी दक्षिणी सीमा 6°45′ उत्तरीअक्षांश से निर्धारित होती है।

● भारत का क्षेत्रफल 32.8 लाख (32,87,263) वर्ग किमी है। इस तरह यह विश्व के धरातल का 2.4% भाग घेरते हुए सातवाँ बड़ा देश है।

● भारत की मानक देशान्तर रेखा (याम्योत्तर) 82°30 पूर्व है जो इलाहाबादके पास से गुजरती है।

• इस प्रकार भारत की स्थिति उत्तरी गोलार्द्ध के उष्ण और उपोष्ण कटिबन्धों में है। कर्क रेखा भारत को लगभग दो भागों में बाँटती है-उत्तरी भाग उपोष्ण एवं दक्षिणी भाग उष्ण कटिबन्धीय है।

● भारत की स्थलीय सीमाओं की लम्बाई 15,200 किमी है। मुख्य भूमि की 6100किमी लम्बी तट रेखा है एवं 1417 किमी द्वीपीय तट रेखा है, जो कुल मिलाकर 7517 किमी की भारतीय तट रेखा बनाती है।

ध्यान दें!

● भारत की 3380 किमी सीमा चीन के साथ जुड़ी हुई है जो जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखण्ड, सिक्किम तथा अरुणाचल प्रदेश के साथ लगी

● भारत की 1690 किमी की सीमा नेपाल के साथ जुड़ी है, जो उत्तराखण्ड, उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंग एवं सिक्किम से लगी हुई है।

● भारत की 2912 किमी की लम्बी सीमा पाकिस्तान से लगी हुई है जो जम्मू-कश्मीर, पंजाब, राजस्थान एवं गुजरात से सम्बन्धित है।

● भारत की 4053 किमी लम्बी सीमा बांग्लादेश से लगी हुई है जो प. बंग, असोम, मेघालय, त्रिपुरा से सम्बन्धित है।

● भारत की 1463 किमी लम्बी सीमा म्यांमार के साथ लगती है जो अरुणाचल प्रदेश, नागालैण्ड, मणिपुर, मिजोरम से सम्बन्धित है।

● प्रायद्वीपीय भाग समुद्री क्षेत्र है जिसके पश्चिम में अरब सागर, दक्षिण में हिन्द महासागर तथा पूर्व में बंगाल की खाड़ी है।

भारत का प्राकृतिक विभाजन

भारत के सम्पूर्ण क्षेत्रफल का 43% मैदान, 28% पठार, 18% पहाड़ एवं 11% पर्वत हैं। साधारणत: भारत को चार धरातलीय भागों में विभक्त किया जाता है।

  1. उत्तरी पर्वतीय या हिमालय पर्वत 3. प्रायद्वीपीय या दक्षिण का पठार
  2. उत्तरी भारत का विशाल मैदान 4. तटीय मैदान एवं द्वीप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *